Ads

All Things Are Possible For You Motivational Thoughts

All Things Are Possible For You Inspirational Thoughts

All things are possible if you believe ये कहने वाले और कोई नहीं हम ही लोगो में से कुछ इन्सान है. वो कोई भगवान नहीं है. हमारे जैसे ही आम इन्सान है. उनके जो inspirational thoughts है जो हमें उनके द्वारा बताये जाते है. उनके माध्यम से वो हमें ये सब बताया करते है. आज के विषय को लेकर बहुत से फिलोसफर ने कहा है की, “all things are possible” याने “सभी चीजे मुमकिन है” 

ऐसा कहने के पीछे क्या लॉजिक है ये जानना हमारे लिए जरुरी है. क्या सचमुच में “सभी चीजे मुमकिन है” अगर है तो फिर क्यों इस दुनिया लोग दुखी है. क्यों कुछ लोग अमीर है कुछ लोग गरीब है. कुछ के जीवन में खुशहालिया है तो कुछ के जीवन में निराशा भरी पड़ी है. ऐसे सवाल आपके मन में भी उठ रहे होंगे. जो अभी मेरे मन में उठ रहे है. कहिये सच है या नहीं. 

inspirational thoughts


इन सभी सवालो के जवाब आज इस पोस्ट के माध्यम से यदि हम आप तक पंहुचा पाये तो हमें अत्यत ख़ुशी का अनुभव होगा. बहरहाल all things are possible you याने की “आपके लिए सभी चीजे मुमकिन है” इस बात की तह तक जाना जरुरी है. यदि ऐसा कोई कहता है, तो सवाल आता है की, कैसे ?

इन सभी का जवाब है कुछ inspirational thoughts. जो की हमारे महापुरुषों के द्वारा, कुछ कहानियो के माध्यम से, हमारे बिच की घटनाओ के माध्यम हमारे सामने आते रहते है. जिनके द्वारा हमें कार्य करने के प्रेरणा मिलती. जिनको सुनकर हमारे मन में सदा आगे बढ़ने की उमंग जगती है. आज का ये विषय उन ही motivational thoughts के बारे में है. जिन्हें हम कुछ मुद्दों के द्वारा समझेंगे.

1. all things are possible if you believe :-

इस मुद्दे को समझने के लिए हमें अपने मन की बात को सुनना होगा. जो की हमें पूरी तरह आश्वस्त कर सकता है. की हम कर सकते है. मन की भी अगल अलग अवस्थाये होती है. जो की कभी कुछ सोचता है. कभी कुछ सोचता है. इसी कारण से ये भी कहा जाता है की “मन के हारे, हार है, मन के जीते जित”. इसी बात को जान लेना जरुरी है जब तक हम अपने आप पर भरोसा नहीं करेंगे तब तक हम कुछ भी नहीं कर पाएंगे.

छोटा सा उदाहरन से इसे समझा जा सकता है. हाथी होता है जिसे सर्कस वाले अपने साथ गुमाया करते है. उस हाथी को आप लोगों ने देखा होगा की, वह एक छोटी सी जंजीर से बंधा हुआ होता है. उस छोटी सी जंजीर की उस हाथी के सामने क्या औकात है. यदि हाथी ने दिल से चाहा तो वह उस जंजीर को तोड़ सकता है. परन्तु वह भी उस जंजीर से बंधा होता है. क्यों क्योकि उसे विश्वास ही नहीं की उसकी ताकत उस जंजीर से ज्यादा है. उस हाथी को बचपन से उसी जंजीर से बांध कर रखा जाता है. इसी कारण से बचपन से ही उस हाथी की मानसिक प्रक्रिया ही उस आधार पर बन जाती है. वह बड़ा होने पर भी यही सोचता है की वह इस जंजीर को नहीं तोड़ पायेगा. 

ऊपर के उदहारण में हाथी की जगह हम लोग है. जो अपने मानसिक जंजीर को तोड़ ही नहीं पा रहे. जो सदियों से हमारे मन को बंधकर रखे हुए है. हमारा दिमाग उसके आगे सोच ही नहीं पाता है. जहा हम आज भी उन्ही खोखले दकियानूसी बातो के ऊपर आकर रुख जाते है. जो हमारी तरक्की में बड़ा डालते हो. 

इस मुद्दे के आधार पर हम कह सकते है की यदि हम अपने आप पर विश्वास करे को हम कुछ भी कर सकते है. ऐसे बहुत से उदाहरन हमारे सामने रोजना आते है और आते रहेंगे. हमें बस उन सभी से कुछ न कुछ सीखते जाना है. जो हमारे जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा बन सकते है.

2. all things are possible when you do :-

उपरोक्त मुद्दे में हमने देखा की, आप अपने आप पर विश्वास करे तो आप कुछ भी कर सकते है याने “सभी चीजे मुमकिन है”. पर क्या यही सही बात है. केवल विश्वास करने भर से हमारे काम बन जायेंगे. हमें कुछ करने की आवश्यकता नहीं होगी. अगर को सोच ले की, मै भारत का प्रधानमंत्री बन जाऊ और उसे पूरा विश्वास भी है की वह बन ही जाएगा तो क्या ऐसे में वह व्यक्ति भारत का प्रधानमंत्री बन बन जायेगा. इसका जवाब क्या होगा. अगर वो उसके लिए मेहनत कर अपनी राजनितिक पहुच बढाए. जनहित के कार्य करे वगैरा वगैरा. 

सीधा सा सवाल है की मात्र विश्वास कर लेने से की, मै ये कर सकता हु तो वो कार्य हो जायेगा. नहीं इसके लिए उस विश्वास में कृति का साथ लगेगा. अर्थात उसके लिए हमें उसके अनुकूल कार्य को अंजाम देना होगा. चाहे वो दुनिया का कोई भी कार्य हो. छोटे से छोटे कार्य को पूरा करने के लिए उसके विश्वास के साथ कृति भी जरुरी होती है. ये इस मुद्दे के आधार पर हमने सिद्द कर दिया. 

3. with god all things are possible thinking :- 

हमारे वेदांत, दर्शन, धार्मिक ग्रंथो, आदि में कुछ न कुछ प्रसंग हमारे सामने ऐसे आते है. जो की हमें आश्चर्य में डाल देते है. जो की हमें भगवान से जोडती है. हमारी भगवान के प्रति आस्था ही इस बात का कारण है. भगवान के बारे में हमारे विचार है की, वह हमारे साथ सदा होता है. और भगवान के द्वारा ही हमसे वो करवाया जा रहा है. ये सभी बाते अपनी अपनी आस्था का प्रसंत है. भगवान विश्वास की बात नहीं आस्था की बात है.

परन्तु इस बात का कोई प्रमाण नहीं दे सकता है की, भगवान है. भगवान को हम प्रकृति के रूप में जान सकते है. जो की हमें चला रही है. प्रकृति ही आँखों से दिखने वाले भगवान है. बाकी सभी अपनी अपनी आस्था के आधार पर पाने अपने पूज्य को पूजते है. इसमे कोई गलत बात नहीं है. ये हमारे मानसिक विचारो के आदान प्रदान का विषय है. 

भगवान हमारे साथ है. हम ये कार्य को कर सकते है. ये भावना हमें बड़े से बड़े कार्य को करने की ताकत देती है. इसी के माध्यम से अच्छे अच्छे कार्य हुआ करते है. इसमे कोई भी बुराई की बात नहीं है. बहुत से ऐसे सफल लोग है जो अपने सफलता का श्रेय भगवान को देते नहीं चुकते है. इसका सीधा-सीधा मतलब ये है. की उनका भगवान के प्रति विश्वास और उनके कार्य के प्रति लगन ने उन्हें उस मुकाम पर पहुचाया है. 

4. All things are possible for god true or false :-

भगवान के लिए “सभी कुछ मुमकिन है” ये कहा तक सभी है और किस हद तक सही है. इस मुद्दे के बारे में हम ये ही कह सकते है की जो व्यक्ति भगवान, ईश्वर इन संकल्पनाओ में विश्वास रखता है. उस व्यक्ति के लिए ये कहना और मानना आम बात है. उसके ठीक विपरीत जो व्यक्ति नास्तिक है जो ईश्वर स्वरुप को मानता ही नहीं है. उस व्यक्ति के लिए इस बात की कोई भी कीमत नहीं है.

परतु हम और आप किस विचारधारा के लोग है इस बात पर सब कुछ निर्भर करता है. जो पहली विचारधारा के लोग है. उनके पास इस बात के कुछ प्रमाण तो है. जिसे कुछ विज्ञान की विचारधारा को मानने वाले झूठ और अन्धविश्वास का नाम देते है. वही पर कुछ ऐसे भी लोग है. जो इसे ही दुनिया की सम्पूर्ण सच्चाई मानते है. वही आपको ये भी बताना गलत नहीं होगा की, हम भी इसी सनातनी विचारधारा को मानाने वालों में से है. जो की भगवान को मानने वाले लोगो के पक्षधर है.

इसके विपरीत जो नास्तिक स्वाभाव के लोग है उनके हम विरोधी या उनसे दुश्मनी की भावना हमारे मन में नही है. ये सब हम उनकी विचारधारा के ऊपर छोड़ देते है. वो हर बात को विज्ञान के चश्मे से देखते है उसके विपरीत हम उसे धर्म के चश्मे से देखने की कोशिश करते है. बस इतना ही फर्क है.

इस मुद्दे पर जितनी चर्चा की जाये उतनी कम ही लगेगी. तो इसके दो पहलु हमारे सामने निकल कर आते है. एक ये की भगवान को मानने वालो के लिए भगवान ही सबकुछ है और उसके लिए कुछ भी नामुनकिन नहीं और जो नास्तिक है वो इसे झुठला देते है.

Conclusion :- इस पोस्ट के माध्यम से जो motivational thoughts और thought of the day motivational हम आप लोंगों तक पहुचाना चाहते थे वो जरुर आप तक पहुच होगा. इस चर्चा के बाद हम इसी निष्कर्ष पर पहुचे है, की हमारे लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं है. सबकुछ हम कर सकते है. पर उसके लिए जो मेहनत, परिश्रम, और संघर्ष करने की जरुरत पड़ती है उसके लिए हमें तैयार रहना चाहिए तभी हमें सफलता की प्राप्ति होगी. धन्यवाद्

Post a Comment

0 Comments