Ads

प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है [Pregnancy Symptoms In Hindi] गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है

गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है - Pregnancy Symptoms In Hindi - प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है जानिए


आज के लेख में प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है? और गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है? इसके साथ ही Pregnancy Symptoms In Hindi याने प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण, Early Symptoms Of Pregnancy In Hindi के बारे में भी सम्पूर्ण जानकारी देंगे. किन्तु सर्वप्रथम प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जा सकता है? और प्रेग्नेंट होने के कितने दिन बाद पता चलता है? इस प्रकार के सवाल जिसमे कौतुहल से भरे हुए भाव का आभास होता है उनका जवाब देने की सफल कोशिश करेंगे. 


गर्भ-ठहरने-के-कितने-दिन-बाद-पता-चलता-है
गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है


नवविवाहितो में प्रथम प्रेगनेंसी के बारे में बड़ी ही कौतूहलता होती है लेकिन शर्म के मारे प्रेगनेंसी का पता कैसे चलता है? ऐसे छोटे-छोटे सवाल किसी व्यक्ति से नहीं पूछते है. लेकिन वर्तमान में Google के ज़माने में वे यहाँ पर ही अपने प्रश्नों के उत्तर खोजने की कोशिश करते है. उनके सवालों में से कुछ उदाहारण आपके सामने रख रहे है ताकि आपको आभास हो पाए की, कितना कौतुहल होता है नवविवाहितो के मन में और यदि आप खुद नवविवाहित है तो आप उस कौतुहल से अनजान नहीं होंगे. कुछ सवालों के उदाहारण निचे देख सकते है.  


1. प्रेग्नेंट होने के बाद कितने दिन में पता चलता है?

2.प्रेग्नेंट होने के बाद कितने दिन बाद पता चलता है?

3. प्रेगनेंसी का पता कब चलता है?

4. प्रेगनेंसी का पता कैसे चलेगा?

5. प्रेगनेंसी का पता कितने दिन में?

6. प्रेगनेंसी का पता कब लगता है?

7. प्रेगनेंसी का पता कैसे?

8. प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जाता है?

9. प्रेगनेंसी का पता कैसे करते हैं?

10. प्रेगनेंसी के लक्षण कब दिखते है?


इन सवालो के अतिरिक्त प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण क्या-क्या होते हैं और प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाएं घरेलू उपाय क्या है ऐसे भी सवाल Google पर अधिक खोजे जाते है. 


प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है - Pregnancy Symptoms In Hindi – प्रस्तावना


हर एक नवविवाहित का सबसे पहला सपना होता है की उनका एक हसता-खेलता बच्चा जल्दी से जल्दी आ जाये. इसके लिए वे एक नवविवाहित बहुत आतुर होता है. इसीलिए वो शारीरिक रूप से सभी प्रयास करता है. उन प्रयासों की सार्थकता के लिए वो यदि महिला है तब वो प्रेग्नेंट है? और अगर पुरुष है तो क्या मेरी पत्नी प्रेग्नेंट है? ये जानने की कोशिश करता है.


प्रेगनेंसी-कितने-दिन-में-पता-चलता-है
प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है


किन्तु इस बारे में उसे थोड़ी जानकारी का आभाव होता की, प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है या फिर गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है इसके लिए वो पुरे इन्टरनेट की दुनिया में ग़दर मचाये रहता है. उपरोक्त गूगल पर पूछे गए सवाल इस ग़दर का ही नतीजा है. 


लेकिन आपको बता दे की, अब आप हमारे ब्लॉग इंडियन गप्पा के पाठक हो गए है तब आपको चिंता करने की कोई बात नहीं है. प्रेग्नेंट होने के बाद कितने दिन में पता चलता है  इस बारे में सम्पूर्ण जानकारी आपको निचे विषय तालिका के आधार पर आगे दी जाएगी. 


विषय तालिका - Table of Content


  • गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है – संक्षिप्त जवाब 

  • प्रेग्नेंट होने के कितने दिन बाद पता चलता है – विस्तृत जवाब 

  • प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण - Early Symptoms Of Pregnancy In Hindi

  • Early Pregnancy Symptoms In Hindi - प्रेगनेंसी का पता कैसे चलता है 

  • प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाएं घरेलू उपाय के साथ जानिए 

  • प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण वीडियो – YouTube की राय में 


तो आइये शुरू करते है......!


गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है – संक्षिप्त जवाब 


अधिकतर महिलाओं के समक्ष सर्वप्रथम सवाल होता है कि, गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है? साफ तौर प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है जब महिला के रक्त में H.C.G. हॉर्मोन का स्राव होने लगता. ज्यादातर महिलाओं में इस प्रक्रिया को पूरा होने में 6 से 7 दिन लग जाते हैं. जिन महिलायों का पीरियड साइकिल नियमित होता है उनके प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण 2 से 3 दिन में ही दिखाई देने लग जाते है. 


प्रेग्नेंट होने के कितने दिन बाद पता चलता है – विस्तृत जवाब 


नवविवाहित जोड़े या फिर कुछ उत्सुक दंपति जिनके बहुत दिनों के बाद संतान प्राप्ति हो रही हो. वे प्रेगनेंसी का पता कब चलता है याने गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है इस बारे में ज्यादा पूछते है. क्योकि उनको इस बारे में बहुत कम जानकारी होती है क्योकि ये एक चिकित्सा क्षेत्र का विषय है. किन्तु आपको हैरानी होगी कि, प्रेगनेंसी को बहुत ही सरलता से चेक किया सकता है. 


वैसे प्रेगनेंसी को जांचने बहुत से उपाय है. वर्तमान में बाजार कई प्रकार के प्रेगनेंसी कीट उपलब्ध हैं जिससे आपको पता चल सकता है आप या फिर आपका जीवन साथी प्रेग्नेंट है या नहीं. 


आगे हम प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है इसी के साथ प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जा सकता है इस बारे में जानकारी हासिल करंगे. जो निचे मुद्दों के आधार पर आपको प्राप्त होगी.


Pregnancy Symptoms :  1. गर्भावस्था परीक्षण का सही समय क्या है?


वर्तमान में ज्यादातर Pregnancy Test Kit गर्भ धारण हुआ है या नहीं इसका पता पीरियड मिस होने के पहले दिन ही लगा सकते हैं. ऐसे उन्नत और संवेदनशील किट मार्किट में वर्तमान परिदृश्य में आसानी से उपलब्ध है जो पीरियड साइकिल होने के अपेक्षित दिन से पूर्व भी गर्भावस्था का पता लगाने में सक्षम है. किन्तु आपको ये भी जानना जरुरी है की, इन शुरवाती दिनों में महिलाओ में H.C.G. होर्मोन का स्तर कम होने की वजह से इतने जल्दी किये गए प्रारंभिक परीक्षणों का परिणाम गलत होने की संभावना है बनी रहती है. इसीलिए हमारी सलाह यही है की पीरियड मिस होने के लगभग 7 दिन बाद ही Pregnancy Test करे ताकि आपको पता चल सके की, प्रेगनेंसी याने गर्भधारण हुआ है या नहीं.


दिन में किसी भी समय प्रेगनेंसी का परीक्षण किया जा सकता हैं किन्तु ध्यान रहे की, बहुत अधिक पानी नहीं पीना है जब आप प्रेगनेंसी टेस्ट करने वाले हो. इससे शरीर एच.सी.जी. का स्तर कम हो सकता है इससे प्रेगनेंसी टेस्ट की रिपोर्ट गलत हो सकती है. 


वैसे अधिकार डॉक्टर सुबह पेशाब से ही प्रेगनेंसी का परीक्षण करने की सलाह देते है. क्योंकि रात के समय एच.सी.जी. स्तर महिला के पेशाब में केंद्रित हो जाता है.


जिन महिलाओ का मासिकधर्म अनियमित है उन्हें प्रेगनेंसी का परीक्षण (Pregnancy Test) के लिए उनके अनुभव के आधार पर पीरियड मिस होने के बाद सबसे लंबे समय तक का इंतजार करना चाहिए. क्योंकि अनियमित मासिकधर्म में वे निश्चित रुप से अपनी पीरियड की तारिक जान नहीं पाते है. 


इसी प्रकार, हाल ही में आपने गर्भनिरोधक गोलियां का सेवन बंद कर दिया हो तब आप अपने नियमित पीरियड साइकिल के बारे में निश्चित रूप से नहीं बता सकते हैं. इस प्रकार की स्थिति में जब आपने परीक्षण कर चुके है और परिणाम नेगेटिव आया है, तब आपको तीन दिनों तक और प्रतीक्षा करना है उसके बाद फिर दुबारा से Pregnancy Test करना है. 


Pregnancy Symptoms : 2. प्रेगनेंसी का पता कितने दिनों में और किन-किन तरीकों से लगाया जा सकता है


साधारणत: नवविवाहित जोड़े का प्रेगनेंसी टेस्ट करने के पीछे का उद्द्देश्य प्रेगनेंसी का पता कैसे चलता है इस बात को समझना होता है. हालांकि इसके दूसरे कारण भी हो सकते है. आश्चर्य कि की बात ये है की, प्रेगनेंसी जांचने के कई उपाय उपलब्ध होने के साथ ही बाजार में बहुत से प्रेगनेंसी टेस्ट के साधन उपलब्ध हैं. जिनके उपयोग से आसानी आप बड़ी सरलता से अपनी गर्भावस्था के बारे में जान सकते है. 


इस लेख में आगे प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जा सकता है, कितने दिनों में लगाया जा सकता है और किन-किन तरीकों से लगाया जा सकता है. इस बारे में जानेंगे. 


1. पेशाब से प्रेगनेंसी का पता करें :-


पेशाब से प्रेगनेंसी का पता करने का ये तरीका बेहद आसन है. इस प्रयोग में आपको एक छोटी-सी कटोरी लेनी है जिसमे आपको अपना पेशाब भरकर 3 से 4 घंटों के लिए वैसे ही छोड़ देना है. एक बात का ध्यान जरुर रखिये की, इन 3 से 4 घंटों में कटोरी को हिलाना-डुलाना बिलकुल नहीं है. उसके बाद पेशाब की सतह पर अगर सफ़ेद रंग की एक पतली सी सतह बनी हुई दिखाई दे तब आपकी प्रेगनेंसी रुकी हैं. अगर पेशाब की सतह पर कोई भी सतह नहीं बनी है. तो आप प्रेगनेंट नहीं हैं. इस प्रकार आप पेशाब से प्रेगनेंसी का पता लगा सकते है. 


2. प्रेगनेंसी का पता करें गेहूं और जौ के द्वारा :-


यह एक परम्परागत तरीका है. आपको इसमें प्रेगनेंसी की जांच करने के लिए जौ और गेहूं का इस्तेमाल करना पड़ेगा. इसके बारे में कहा जाता है कि मुट्ठी भर जौ और गेहूं के दाने लेकर उनपर पेशाब करना होता है. उन दानो पर पेशाब करने से यदि वो दाने अंकुरित हो जाते हैं तब आप गर्भवती हैं. किन्तु दोनों में से कोई भी दाने अंकुरित नहीं होते है तब आप प्रेग्नेंट नहीं हैं.


3. प्रेगनेंसी का पता करें सफ़ेद सिरका से :-


आप प्रेगनेंसी की जांच सफ़ेद सिरके की सहायता से भी कर सकती हैं. ये प्रेगनेंसी की जांच का एक आसान सा उपाय है. इसमें आपको आधा कप सफेद सिरका कटोरी में ले लीजिये. उसके बाद इसमें आधा कप सुबह का सफ़ेद पेशाब डालना है. यदि इस मिश्रण का रंग बदल जाता है तो समझिये आप प्रेग्नेंट हैं अगर रंग नहीं बदलता है तो आप गर्भवती नहीं हैं.


4. सरसों से प्रेगनेंसी का पता करें :-


ये उपाय काफी कारगर साबित होता है सरसों का उपयोग किया जाता है जो आपके रसोई में बड़ी आसानी से मिल जाता है. दो कप सरसों के बीज का पाउडर एक टब में मिला लेवे. फिर इसमें अपनी गर्दन कुछ देर तक डूबा कर रखना है. ध्यान रहे आप जितनी देर बर्दाश्त कर सके उतनी देर ही डूबकर रखे. उसके बाद गर्म पानी से नहा लीजिए. 


यदि इसके बाद 1 या 2 दिन में पीरियड्स फिर से शुरू हो जाए तब आप प्रेग्नेंट नहीं हैं. अगर 2 हफ्ते तक भी पीरियड्स नहीं आये तो समझिए कि आप प्रेग्नेंट हैं.


5.चीनी/शक्कर से प्रेगनेंसी का पता करें:-


चीनी/शक्कर की मदत से प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए सुबह का पहला पेशाब तीन चम्मच लीजिये इसमें एक चम्मच चीनी पर डाल दीजिये. इसका निरीक्षण करने पर यदि चीनी/शक्कर कुछ समय पश्चात पेशाब में घुल जाती है तब आप प्रेग्नेंट नहीं हैं किन्तु चीनी/शक्कर नहीं घुले तब समझिये आप प्रेग्नेंट हैं. प्रेग्नेंट होने पर जो हार्मोन निकलता है वो चीनी/शक्कर को घुलने से रोकता है ये इसके पीछे का सीधा-साधा तर्क है.


6. टूथपेस्ट भी आता है प्रेगनेंसी टेस्ट के काम:-


हमारे रोजमर्रा के उपयोग में लाया जाने वाला टूथपेस्ट भी प्रेगनेंसी का पता लगाने में काफी सहायक होता है. लेकिन ध्यान रहे कि, टूथपेस्ट का रंग सफेद होना चाहिए. जैसे पेप्सोडेंट या कोलगेट आदि. आपको टूथपेस्ट को एक डिब्बी में डालकर उसमें थोड़ी सी पेशाब डालना है. इसके करीब 1 से 2 घंटे के पश्चात देखिये रंग में क्या बदलाव आता है या झाग बनता है या नहीं? यदि रंग बदलता है तब आप प्रेगनेंट हैं और नहीं तो आप प्रेगनेंट नहीं हैं.


7. ब्लीचिंग पाउडर से करे टेस्ट:-


ब्लीचिंग पाउडर से प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए आपको सुबह का पहला पेशाब एक कटोरी में लेना है. इसके पश्चात इसमें थोड़ी मात्रा में ब्लीचिंग पाउडर मिक्स करना है. इसका निरिक्षण करने पर देखिये की उसमे झाग बनता है या बुलबुले उठते हैं तब आप प्रेग्नेंट हैं यदि नहीं होता है तब आप प्रेग्नेंट नहीं हैं.


8. गुप्तांग का रंग से समझे प्रेग्नेंट है या नहीं :-


आप अपने गुप्तांग का रंग देखकर भी प्रेगनेंसी का पता लगा सकते है. अगर किसी महिला के गुप्तांग का रंग बैंगनी लाल या गहरा नीला है तो समझना चाहिये कि वो गर्भवती हैं. इसका साधारण सा कारण है कि गर्भ ठहरने के दौरान खून का रक्त प्रवाह तेज हो जाता है. यदि ऐसा नहीं होता है तो चिंता या निराश होने की जरुरत नहीं है. प्रेगनेंसी को जांचने के दुसरे भी तरीके है.


9. प्रेगनेंसी किट बिलकुल सरल और सटीक उपाय :-


आपको बता दे की, उपरोक्त बताये सभी तरीको में सबसे बेहतरीन और सटीक उपाय यही है कि, प्रेगनेंसी किट की सहायता से अपना प्रेगनेंसी टेस्ट करे. वैसे इसकी किमत भी बहुत ज्यादा नहीं होती और परिणाम बहुत ज्यादा विश्वसनीय होते है. वैसे ही प्रेगनेंसी किट को उपयोग करना भी काफी आसन है. केवल उसमे जो आपको बताये गए निर्देश है उनका सही से पालन करना होता है. 


आपके लिए अन्य आर्टिकल  

👇👇👇यह भी पढ़ें-👇👇👇

अनवांटेड किट खाने के बाद कितने दिन बाद पीरियड आता है – जानिए

पुरुष का स्पर्म कितना होना चाहिए जिससे बच्चा ठहर सकता है - दिलचस्प जानकारी 

पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए [Sex After Period]  एक महत्वपूर्ण सवाल 

प्रेग्नेंट होने के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए [Pregnancy And Sex] गर्भावस्था और संभोग


प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण - Early Symptoms Of Pregnancy In Hindi


आज के सवाल प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है या फिर गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है इसका जवाब Early Symptoms Of Pregnancy के माध्यम से दिया जा सकता है. क्योकि जब आपको प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण महसूस होंगे तभी आप अपना टेस्ट करवाएंगे उसके बाद आपको ही आपको पता चलेगा की आप प्रेग्नेंट है या आपका गर्भ ठहर चूका है. 


pregnancy-symptoms-in-hindi
Pregnancy Symptoms In Hindi


गर्भवती महिलाओं में ज्यादातर का यही सवाल होता है कि, उनको गर्भ ठहरने के लक्षणों का पता क्यों नहीं चलता है? और प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षणों का हमें गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है


Early Symptoms Of Pregnancy महिलाओं के लिए भिन्न-भिन्न होते है ये उनकी शारीरिक संरचना याने शरीर की बनावट पर निर्भर करता है. इसीलिए गर्भावस्था के लक्षण समझ में आने का कोई निश्चित समय नहीं बताया जा सकता है. 


वैसे किसी में ये लक्षण प्रेगनेंसी ठहरने के 1 से 2 दिन बाद भी दिखाई दे सकते है तो किसी महिला में 1 से 2 महीने के बाद दिखाई दे सकते है. 


प्रेगनेंसी के दौरान, जब पुरुष के शुक्राणु द्वारा अंडे को निषेचित किया जाता है, तब महिला का शरीर एच.सी.जी. हार्मोन का उत्पादन आरंभ कर देता है.


प्रेगनेंसी ठहरने के 10 से 15 दिन बाद यह हार्मोन बनना शुरू हो जाता है. गर्भ ठहरने के 11 वें सप्ताह के दौरान एच.सी.जी. हार्मोन का उत्पादन बंद हो जाता है. उसके बाद प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण महिलाओं में दिखने लगते हैं.


आइये जानते है क्या हैं प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण:- 


प्रत्येक महिला के शरीर की बनावट और उसके स्वास्थ्य के अनुसार प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण याने गर्भ ठहरने के लक्षण दिखाई देते हैं. ऐसा बहुत बार होता है की, महिलाएं अपनी किसी अन्य स्वास्थ्य समस्याओं को ही प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण मान बैठती हैं और चिंतित हो जाती है. 


प्रेग्नेंसी ठहरने के बाद महिलाओं में कुछ विशिष्ट लक्षण देखे जा सकते हैं, जैसे  

1. मिस्ड पीरियड, 2. सिरदर्द, 3. मॉर्निंग सिकनेस, 4. एसिडिटी, 5. एसिड रिफ्लक्स 6. थकान महसूस होना


हमें प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण दिखाई देने पर क्या करना चाहिए:-


आपको बता दे की, Pregnancy के एक से तीन महीने बाद Pregnancy Symptoms दिखाई देने लगते हैं. किन्तु ये लक्षण तीन महीने का समय गुजर जाने के बाद भी नहीं समझ आये तब यह आपकी स्वास्थ्य समस्या भी हो सकती है


यदि ऐसा हो तब आप अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करिये. गर्भ ठहरने के बाद आपका स्वभाव भी कुछ बदल सकता है जैसे 


1. छोटी छोटी बाद में चिडचिडाहट का होना. 2. पसंदीदा चीजें भी नापसंद जैसा लगाना. 3. कुछ मीठा या जंक फूड खाने का मन करना. इस प्रकार आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के कारण आपका स्वभाव में बदलाव होता है. 


इस बारे में आप अपने घर की अन्य महिला सदस्य जो पहले इन अनुभवों से गुज़री हो जैसे आपकी ननंद, सासु, भाभी आदि से सजेशन मांग सकती हैं. आपको बता दे की, इस बारे में घबराने की कोई जरूरत नहीं है.


Early Pregnancy Symptoms In Hindi - प्रेगनेंसी का पता कैसे चलता है - प्रेगनेंसी टेस्टम करने के संकेत


आज के विषय Pregnancy Symptoms In Hindi में आगे जानते है की, यदि किसी महिला के पीरियड मिस हो गए हो या फिर पीरियड आने के पहले होने वाली ऐंठन का अनुभव हो रहा हो. तब आपको तो आपको प्रेगनेंसी टेस्टल कर लेना चाहिए क्योकि आपको इसके द्वारा गर्भावधान होने के संकेत मिल रहे है. 


दूसरे संकते के रूप में एस्ट्रो जन एवं प्रोजेस्टेनरोन इन प्रेगनेंसी हार्मोंस के ज्यामदा मात्रा में बनने के कारण ब्रेस्ट  को छूने से दर्द महसूस हो सकता है.


early-pregnancy-symptoms-in-hindi
Early Pregnancy Symptoms In Hindi
 

यदि आपको भी इनमे से कुछ महसूस हो रहा हो तब आप प्रेगनेंसी टेस्टै कर लीजिये आपके लिए यही बेहतर होगा. वैसे ही पेट में ऐंठन और ब्रेस्टट में दर्द के साथ मतली का अनुभव, थकान और बार बार पेशाब का आना, किसी विशेष फूड खाने की इच्छा करना, या फिर एलर्जी होना इस प्रकार के संकेत Early Pregnancy Symptoms हो सकते है. शरीर में इस तरह के बदलाव का अनुभव करने पर आप प्रेगनेंसी टेस्टn जरुर कर लीजिये.


आप अपनी प्रेग्नेंसी टेस्ट के लिए किट का उपयोग कर सकते है. या फिर उपरोक्त बताये घरेलू तरीकों का भी प्रयोग कर सकते है. प्रेग्नेंसी टेस्ट के लिए सुबह के पहले पेशाब को बेहतर बताया गया है और यदि आप किट का उपयोग कर रहे हैं उसमे बताये निर्देशों सही से पालन जरुर करें. क्योकि टेस्ट के समय सही विधि ना अपनाने पर आप प्रेग्नेंट होते हुए भी रिजल्ट निगेटिव आ सकता है. 


प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाएं घरेलू उपाय - गर्भावस्था परीक्षण के लिए कुछ घरेलू उपाय जानिए


आपका पीरियड मिस होने पर या उसमे कुछ देरी होने पर आपको चिंतित होने की कोई भी जरूरत नहीं है. यदि आप इसके बारे में चिंता करते है तो यही चिंता आपको समय से पहले प्रेगनेंसी टेस्ट करेने के लिए प्रेरित करता है. इस समय आपके पास प्रेगनेंसी टेस्ट किट नहीं है या फिर आप इसके लाने का भी इंतजार नहीं कर सकते आपको अभी के लिए तात्पुरती के लिए ही प्रेगनेंसी टेस्ट करना है. तब आप बड़ी ही सरलता से अपने घर पर ही प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती हैं.


इसके लिए आपको रसोई में उपलब्ध सामग्री के द्वारा ही प्रेगनेंसी टेस्ट किट के बिना आपकी गर्भावस्था की जाँच करके उसका खुलासा मिल सकता हैं. इस तरह घर पर आपकी प्रेगनेंसी टेस्ट काफी आसान, सुगम और सस्ती होता है.


प्रेगनेंसी-का-पता-कैसे-लगाएं-घरेलू-उपाय
प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाएं घरेलू उपाय


प्राकृतिक सामग्री जैसे सिरका, टूथपेस्ट, बेकिंग सोडा इत्यादि का उपयोग घर पर अपनी गर्भावस्था की जाँच के लिए उपयोग में लायी जा सकती हैं, किन्तु आपके मन में ये सवाल उठ रहा होता की, क्या घरेलू गर्भावस्था परीक्षण के उपाय सटीक परिणाम देते हैं? या फिर घरेलू गर्भावस्था परीक्षण कितना सटीक होता है? इस बारे में हम आगे चर्चा करेंगे. 


घरेलू गर्भावस्था परीक्षण कितना सटीक होता है? - घरेलू गर्भावस्था परीक्षण के उपाय सटीक परिणाम देते हैं?


आपको बता दे की, घरेलू परीक्षणों के परिणामों की सटीकता का प्रमाण देनेवाला कोई वैज्ञानिक अनुसंधान नहीं है. इन घरेलु उपायों में महिला के पेशाब में एच.सी.जी. होर्मोन के स्तर की जांच करके इस बात का पता लगाया जाता है की आप प्रेग्नेंट हो या नहीं. क्योकि जब गर्भाधान होता है तब एच.सी.जी. होर्मोन का स्तर महिला के शरीर में बढ़ता है. 


उसमे उल्लेखनीय है की, यदि बताये निर्देशों का सही-सही पालन किया जाता है तब घरेलू गर्भावस्था परीक्षण के उपाय बिलकुल सटीक परिणाम दे सकते हैं. इसके गलत परिणाम बताने की सम्भावना को भी नाकारा नहीं जा सकता है किन्तु इसमें भी दोहराय नहीं की हर जगह अपवाद जरुर होते है. 


घरेलू गर्भावस्था परीक्षण तभी गलत परिणाम को इंगित कर सकता है जब आपका H.C.G. होर्मोन (Human Chorionic Gonadotropin) का स्तर कम हो. ऐसा तब होता है जब आप जल्दबाजी में  समय से पहले टेस्ट करते हैं. और इस समय आपको नेगेटिव परिणाम मिल सकते हैं. क्योंकि इस समय आपके शरीर में पर्याप्त मात्रा में एच.सी.जी. का निर्माण नहीं हुआ है. 


इसीलिए आपको हमारा परामर्श है की, जब आपको प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण का अनुभव हो रहा हो उसके बाद भी आपको करीब 7 दिनों तक  इंतजार करने के बाद ही परीक्षण करना चाहिए.


आपके लिए अन्य आर्टिकल  

👇👇👇यह भी पढ़ें-👇👇👇

पीरियड के कितने दिन बाद बच्चेदानी का मुंह खुला रहता है - सटीक जवाब

पीरियड मिस होने के 7 दिन बाद क्या करना चाहिए – मासिक धर्म - Menstrual Cycle In Hindi - जानिए 

पीरियड मिस होने के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे - प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए


हमें घरेलू गर्भावस्था परीक्षण कब करना चाहिए? जानिए 


प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जा सकता है और प्रेग्नेंट होने के कितने दिन बाद पता चलता है इस बारे में आगे जानने के साथ ही आगे हम इस बात को भी जान लेते है की घरेलू गर्भावस्था परीक्षण कब करना चाहिए. ये किन परिस्थितियों में किया जाना ठीक है. 


1. यदि आपके पीरियड आने में देरी हुई हो :- 


पीरियड मिस होना गर्भावस्था का विश्वसनीय संकेत माना जाता है. ज्यादातर महिलाओं में पीरियड साइकिल 28 दिनों का होता है. इसी कारण यदि आपके पिछले पीरियड साइकिल के बाद एक महीना पूरा हो चुका है तब आप प्रेगनेंसी टेस्ट के बारे में सोच सकती हैं. किन्तु, कभी-कभी पीरियड में देरी भिन्न कारणों से भी हो सकती है. जैसे अनियमित तनाव, अनियमित आहार, व्यायाम की कमी आदि कारण हो सकते है. 


2. ऐंठन होने की परिस्थिति में :- 


आपको बता दे की जब गर्भाशय में एक अंडे का प्रत्यारोपण होकर गर्भ धारण होता है तब भी पेट में हलकी सी ऐंठन निर्माण होती है. इस दर्द और मासिकधर्म के दौरान होने वाले दर्द में अंतर कर पान काफी कठिन होता है. इसमें आपको ये भी आभास होता है की मासिकधर्म होने वाला हैं. 


3. आपके स्तनों में पीड़ा का अनुभव हो रहा हो :- 


गर्भ धारण होते समय महिला के शरीर में एस्ट्रोजेन तथा प्रोजेस्टेरोन के अधिक उत्पादन के कारण गर्भवती महिला के स्तन में पीड़ा या फिर कुछ मात्रा में कोमलता महसूस होती हैं. कुछ महिलाओ को स्तन भरे हुए महसूस होते सकते हैं.


4. आपको स्वाभाविक तौर पर कुछ अलग-सा महसूस हो रहा हो :- 


गर्भावस्था के अन्य संकेत है में जैसे मतली आना, भोजन के प्रति अरुचि होना, थकावट और बार-बार पेशाब लगना आदि हो सकते हैं.


5. आपका गर्भनिरोधक प्रयास विफल होने पर :- 


यदि आपके द्वारा किये गए गर्भनिरोधक प्रयास जैसे असफल होते नजर आ रहे हो. तब आपको घरेलु गर्भावस्था परीक्षण करके जरुर देख लेना चाहिए.


गर्भावस्था परीक्षण किट (प्रेगनेंसी टेस्ट किट) क्या है?


यदि आप अपने घर में बिना डॉक्टर के पर जाये ही अपनी प्रेगनेंसी की पुष्टि करना चाहते है तो आपको प्रेगनेंसी टेस्ट किट सबसे सुविधाजनक उपाय है. इस प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग काफी आसान है और सटीक परिणाम इसमें पता चल जाता हैं. 


वर्तमान में मार्किट में घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट किट बहुत से ब्रांड नेम से उपलब्ध हैं. ये सभी प्रेगनेंसी टेस्ट किट महिला के पेशाब में उपस्थित H.C.G. के स्तर का पता लगाकर उसके आधार पर परिणाम निर्धारित करता है.


जब भी आप घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट किट को खरीदते है उस समय कुछ बातों को ध्यान में रखना आवश्यक है:- 


1. सस्ते की ओर न भागे एक प्रसिद्ध ब्रांड चुनें को चुनिए.


2. प्रेगनेंसी टेस्ट किट को खरीदने से पहले उसकी पैकेजिंग की जाँच अवश्य करें. ये भी सुनिश्चित करें कि किट पहले से खुली हुई न हो.


3. साथ ही, एक्सपायरी डेट भी जांच लीजिये. यदि एक्सपायरी हो चुकी किट सटीक परिणाम नहीं दे पायेगी.


4. दो स्टिक के साथ आने वाली प्रेगनेंसी टेस्ट किट खरीदें. इसमें जिसमें दो स्टिक होती है. जैसे एक परीक्षण का परिणाम नेगेटिव आता है, तब कुछ दिनों बाद फिर से दूसरी स्टिक में परीक्षण कर सकते हैं.


यदि आप हमारे सुझाव से प्रेगनेंसी टेस्ट किट खरीदना चाहते है तो आसानी से खरीद सकते है उसके लिए आपको यहाँ क्लिक करिए.👉👉👉👉 Click Here जो केवल आपको 45 रूपये में मिल जाएगी. 


आगे प्रेगनेंसी का पता कैसे चलता है इसमें जान लेते है की, घरेलु प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करते है


घरेलु प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करें? Pregnancy Test With Early Pregnancy Symptoms


आपको घर पर ही प्रेगनेंसी टेस्ट करने के पहले ध्यान रहे की, आप प्रेगनेंसी टेस्ट में बताये गए निर्देशों को ध्यान से समझकर गर्भावस्था का परिक्षण करिए. 


अधिकतर प्रेगनेंसी टेस्ट किट बहुत सुविधाजनक होते हैं. सभी में टेस्ट की प्रक्रिया काफी मिलती जुलती ही होती है. निचे स्टेप टू स्टेप जानिए.


1. कुछ प्रेगनेंसी टेस्ट किट में पेशाब को लेने के लिए ड्रॉपर दिए हुए होता है तो किसी में एक छोटे कप दिया जाता है. 


2. ड्रॉपर से पेशाब की कुछ बूंदें स्ट्रिप पर डालकर देख सकते आप परिणाम जान सकते हैं. वही कप वाली किट में छोटे कप में पेशाब इकट्ठा करना पडता हैं और प्रेगनेंसी की पुष्टि करने के लिए टेस्ट किट को ही उस कप में डुबाना पड़ता हैं. 


3. जिस प्रकार से टेस्ट करने के तरीके में भिन्नता होती है उसी प्रकार परिणाम को प्रदर्शित करने के तरीके में भी भिन्नता होती हैं. 


4. कुछ में गुलाबी या नीली रेखाओं के रूप में परिणाम दर्शाते हैं. कुछ में प्लस या माइनस संकेत या फिर किसी में पेशाब का रंग बदल जाने पर परिणाम को समझना होता हैं. 


5. वर्तमान में नवीनतम डिजिटल प्रेगनेंसी टेस्ट किट केवल शब्दों में अपने परिणाम प्रदर्शित देती हैं, जैसे कि “प्रेग्नेंट” और “नॉट प्रेग्नेंट” सीधे-सीधे पता चल जाता है. आपकी गर्भावस्था को  कितने हफ्ते बित चुके है इसका अनुमान भी इसमें बताया जाता हैं.


प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण वीडियो – YouTube की राय में 


गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है इस लेख में आगे आपको Early Pregnancy Symptoms वीडियो में जानेंगे. यदि आप हमारे ब्लॉग इंडियन गप्पा के नियमित पाठक हो तो आपको ये ज्ञात ही होगा की, किसी भी सवाल का जवाब लिखित रूप के साथ ही वीडियो में भी बताया जाता है जिससे आपकी जिज्ञासा को पूर्णत: विराम मिल सके.


प्रथम विडियो Nida Healthcare इस YouTube Channel का आपके सामने रख रहे है. जिसके द्वारा पीरियड मिस होने से पहले प्रेग्नेंसी के लक्षण अर्थात प्रेग्नेंसी का पता कब चलता है इस बारे में काफी सटीक जानकारी बताई गयी है. निचे आप विडियो देख सकते है. 👇👀👇




द्वितीय विडियो Lybrate इस YouTube Channel से लिया गया है. जिसमे Dr. Surekha Jain इनके द्वारा पीरियड्स के कितने दिन बाद महिला प्रेग्नेंट हो सकती है? और गर्भ कब और कैसे ठहरता है इस बारे में इनफार्मेशन बतायी गयी है. निचे आप विडियो देख सकते है.👇👀👇





प्रेगनेंसी के लक्षण पर बार-बार पूछे जाने वाले सवाल - Frequently Asked Questions About Pregnancy 


हमारे नियमित पाठको के द्वारा हमे कमेंट और ईमेल के माध्यम से पूछे गए बार-बार पूछे जाने वाले सवालो का समाधान रूप में जवाब बताये जा रहे है. 


प्रश्न 1. प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण क्या-क्या होते हैं?

जवाब:- प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण निम्न प्रकार से बताये जा सकते है :- 1. पीरियड्स मिस होना, 2. जी मिचलाना और चक्कर आना, 3. हल्का रक्तस्त्राव, 4. थकान महसूस होना, 5. मॉर्निंग सिकनेस, 6. ब्रैस्ट तथा निप्पल्स में हल्का दर्द होना 7. निप्पल्स के रंग में परिवर्तन, 8. मूड बदलना, 9. सिर दर्द और सिर भारी होना


इस जवाब को विस्तृत रूप से समझने के लिए Tata 1mg इस YouTube Channel के विडियो जिसका शीर्षक गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण  - Early Pregnancy Symptoms in Hindi इस माध्यम से अच्छी तरीके से समझ सकते है. 👇👀👇



प्रश्न 2. प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जा सकता है?

प्रश्न 3. प्रेगनेंसी का पता कैसे चलेगा?

प्रश्न 4. प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जाता है?

प्रश्न 5. प्रेगनेंसी का पता कैसे करते हैं?


प्रश्न 2 से 5 के जवाब:- प्रेगनेंसी का पता लगाने के लिए आपको प्रेगनेंसी किट के द्वारा टेस्ट करना ही सबसे बेहतर तरीका है. वैसे आप इसके लिए हमारे द्वारा बताये गए प्रेगनेंसी का पता लगाने के घरेलू उपाय भी करके देख सकते है. 


प्रश्न 6. प्रेगनेंसी का पता कब चलता है?

प्रश्न 7. प्रेगनेंसी का पता कब लगता है?

प्रश्न 8. प्रेगनेंसी के लक्षण कब दिखते है?

प्रश्न 9. प्रेगनेंसी का पता कितने दिन में?


प्रश्न 6 से 9 के जवाब:- प्रेगनेंसी का पता कब लगाया जा सकता है इस बारे में वहीं एक्सपर्ट की यह भी सलाह देते हैं यदि महिला के पीरियड नियमित हैं, उस स्थिति में महिला के पीरियड सायकल मिस होने के ठीक अगले दिन भी आप प्रेगनेंसी का टेस्ट करवा सकते हैं. वैसे साफ तौर पर प्रेग्नेंसी का पता महिला के रक्त में H.C.G. हॉर्मोन का स्राव होने लगे उस स्थिति में सटीकता से लगाया जा सकता है. अधिकतर महिलाओं में इस प्रक्रिया को पूर्ण होने में 6 से 7 दिन तक का समय लगता है.


Note :- इस लेख के माध्यम से हमारा उद्देश्य केवल आपको से जानकारी देना है. हम आपको उपचार की सलाह या किसी तरह दवा के उपयोग की सलाह नहीं देते है. ये लेख केवल जानकारी के उद्देश्य से इन्टरनेट पर उपलब्ध जानकारी को संगृहीत करके आपके लिए लिखा गया है. ये जानकारी बहुत से लोगो के लिए उनके शरीर के मुताबिक लागु हो सकती है.

 

निष्कर्ष:- 


आज के लेख गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है? इसमें Pregnancy Symptoms In Hindi याने Early Symptoms Of Pregnancy In Hindi, प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण, और प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है? इस बारे में जानकारी बतायी गयी. उसी प्रकार प्रेग्नेंट होने के कितने दिन बाद पता चलता है? और प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाया जा सकता है? इस प्रकार के सवाल का जवाब देने की सफल कोशिश की गयी. प्रेगनेंसी का पता कैसे चलता है? और प्रेगनेंसी का पता कैसे लगाएं घरेलू उपाय के बारे में अपने कमेंट जरुर करे.

Post a Comment

0 Comments